लॉकडाउन के करीब 70 दिन बाद कोराना संक्रमण के हॉटस्पॉट बने इंदौर में आगमन होगा- अनलॉक-1.0 का।  इस अनलॉक के अंतर्गत इंदौर नगर निगम सीमा में करीब 80 फीसदी इलाके को बड़ी राहत दी गई है। इसमें शहर के अति संक्रमित मध्य क्षेत्र जोन-1 को छोड़कर बाकी शहर (जोन-2) और निगम में शामिल 29 गांव (जोन-3) आ रहे हैं, जबकि जोन-4 में शामिल जिले के ग्रामीण क्षेत्र को लगभग पूरी तरह खोल दिया गया है।

शहर में क्या दुकाने खुलेंगी?

किराना दुकान, दूध डेयरी, गैरेज, लॉण्ड्री, मोबाइल फोन, पंखे, कूलर, एसी, आटा चक्की, इलेक्ट्रिक, मोबाइल, कंप्यूटर आदि की रिपेयरिंग शॉप खुली रहेंगी व सब्जी विक्रेता ठेले या गाड़ी से घर-घर सब्जी बेच सकेंगे। 

शहर के जोन-1 में भी किराना दुकानें खुल सकेंगी, लेकिन दुकानदार फोन या व्हॉट्सएप पर ऑर्डर लेकर केवल होम डिलिवरी कर सकेंगे।

ये दुकानें खुली नहीं रहेंगी

नमकीन, मिठाई, अंडा व पोल्ट्री की दुकानें नहीं खोली जा सकेंगी। यहां से केवल घर पहुंच सेवा हो सकेगी। इसी तरह स्टेशनरी दुकान से भी घर पहुंच सेवा उपलब्ध कराई जा सकेगी। 

शहर सहित पूरे जिले में स्कूल-कॉलेज, सार्वजनिक परिवहन, धर्मस्थल, होटल, शॉपिंग मॉल, सिनेमाघर, क्लब, जिम आदि नहीं खुल पाएंगे। 

धार्मिक, सामाजिक और सार्वजनिक सभाओं व कार्यक्रमों पर भी प्रतिबंध लगा रहेगा। 

70 दिन बाद अनलॉक-1.0 में आम जनता को राहत तो दी गई है, लेकिन उतना ही जागरूक और सावधान रहने को भी कहा गया है । जिला आपदा प्रबंधन समूह की बैठक में यह फैसला लिया गया की अगले एक सप्ताह तक प्रशासन  अनलॉक 1.0 पर लगातार निगरानी रखेगा और यदि इस दौरान कोरोना संक्रमण की दर और मरीज बढ़ते हैं तो लॉकडाउन खोलने की रफ्तार न केवल रोक दी जाएगी, बल्कि स्थिति गंभीर होने पर दी गई छूट वापस भी ली जा सकती है। इस बैठक में सांसद शंकर लालवानी, कलेक्टर मनीष सिंह, डीआइजी हरिनारायणचारी मिश्र, पूर्व महापौर कृष्णमुरारी मोघे, राज्य सरकार की कोरोना नियंत्रण सलाहकार समिति के सदस्य डॉ. निशांत खरे, विधायक मालिनी गौड़, रमेश मेंदोला, उषा ठाकुर, महेंद्र हार्डिया, सुदर्शन गुप्ता सहित अन्य अधिकारी मौजूद थे।

इसी के साथ साथ इस विषय पर भी गौर किया गया की क्वारंटाइन सेंटर, नाके, चौराहे आदि अन्य स्थान जहां पर फोर्स की आवश्यकता नहीं है, ऐसे स्थानों से फोर्स हटाकर बैंक, पोस्ट ऑफिस, मंडी व ऐसे स्थानों पर लगाया जाए जहां आने वाले दिनों में भीड़ होने की संभावना रहेगी। आइजी विवेक शर्मा ने इस बात पर भी गौर किया की कोरोना के अलावा अपराध नियंत्रण की भी चुनौती पुलिसकर्मियों पर रहेगी और  जून का महीना अभी तक  कोरोना ड्यूटी का सबसे चुनौतीपूर्ण रहेगा और इसी को मद्देनज़र रखते हुए आइजी  ने ये भी निर्देश दिए :- 

-चौराहों पर ट्रैफिक सिग्नल शुरू होंगे।

स्वास्थ्य

– सभी अधिकारी अपने अधीनस्थों के स्वास्थ्य पर लगातार नजर रखें।

– पुलिसकर्मियों को संक्रमण से बचाना होगा। 

– आपराधिक प्रवृत्ति के लोगों पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई कर उनकी गतिविधियों पर नजर रखी जाए।

– ऐसे इंतजाम करें कि लॉकडाउन खत्म होते ही आपराधिक प्रवृत्ति के लोग लॉकअप में नजर आएं।

भले ही शहर में बहुत कुछ खुल गया हो, पर हमारी सलाह यही रहेगी की घर से बहार तब ही निकलें जब बेहद ज़रूरी हो, मास्क पहने, सोशल डिस्टन्सिंग फॉलो करें, और alcohol based सांइटिज़ेर से हाथों को साफ़ रखें |

जानिए आखिर कैसे साबुन से हाथ धोने से मर जाता है कोरोना वायरस? जानिये इधर

Comments

Related Posts

Today Prime Minister Modi will be inaugurating Asia's biggest solar power plant in Rewa MP through ...
Team IndoreHD
July 10, 2020
कोविड-19 की महामारी को सँभालने के लिए इंदौर प्रशासन ने यह तय किया है की रविवार को इंदौर में कर्फ्यू ...
Team IndoreHD
July 9, 2020
स्वच्छता की मुहिम को और आगे बढ़ाते हुए, इंदौर के निगम ने यह फैसला लिया है की , जो भी वार्ड ज़ीरो वैस्ट ...
Team IndoreHD
July 9, 2020
X